नही रहे उत्तर बिहार के प्रसिद्ध सूर्य मंदिर के प्रधान पुजारी,भक्तो ने पार्थिव शरीर को दिया जलसमाधि

0
94

सारण जिला स्थित कोठिया नरांव के प्रसिद्ध सूर्य मन्दिर सह राम जानकी मंदिर के मुख्य पुजारी का लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया। वे पिछले कुछ महीनो से बीमार थे जिनका इलाज पटना स्थित नीजी नर्सिंग होम मे चल रहा था। पिछले महिने हाॅस्पीटल से डिस्चार्ज होकर मंदिर आये थे।शुक्रवार 03 जुलाई 2020 गोधुली वेला मे उन्होंने अंतिम श्वास लिया और इस माया लोक को छोड ब्रम्हलोक चल दिए।उनकी उम्र लगभग 60 वर्ष थी।ज्ञात हो की 6 सितंबर 2016 मंगलवार को वयोवृद्ध सप्तऋषि श्री श्री 1008 श्री सीताराम दास जी महाराज 101 वर्ष के उम्र मे स्वर्ग सिधारे थे।इसके बाद उनके प्रिय शिष्य श्री श्री 108 श्री मनोहर दास जी महाराज को सूर्यमंदिर के प्रधानपुजारी की गद्दी मिली और उन्हे प्रधान पूजारी के रूप मे हजारो भक्तो व संत समाज के बीच चादर देकर सम्मानित किया गया और मंदिर की जिम्मेदारी सौंपी गयी लेकिन वे पाॅच वर्ष के अन्दर ही स्वर्ग सिधार गये।जिसकी वजह से आस-पास के ग्रामिणो व संत समाज मे शोक की लहर दौड़ गई है। उनके निधन के बाद से ही लगभग पांच पंचायत के दर्जनो गाॅवों के नर-नारी ,संत व बच्चों का आगमन उनके अंतिम दर्शन के लिए शुरू हो गया।इसके साॅथ ही रात भर भजन किर्तन चलता रहा और भक्त कतारबद्ध हो सोशल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए उनका अंतिम दर्शन करते रहे।आज शनिवार शनिवार 4 जुलाई को दोपहर तक भक्तो के द्वारा दर्शन करने व भजन किर्तन का शिलशिला चलता रहा।उसके बाद उनके पार्थिव शरीर को ब्रम्हलीन होने के लिए जल समाधि देने हेतु गंगा तट ले जाया गया जहाँ पार्थिव शरीर को जल समाधि दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here