नारायणी नदी का जलस्तर बढ़ने से भू कटाव शुरू

0
58
ग्रामीणों के आक्रोश प्रदर्शन के बाद एक सप्ताह से रुका हुआ है कार्य
परसा:-हर साल नारायणी नदी के कटान की समस्या जब सामने आती है तब विभाग जागता है। फिर उसके रोकथाम को लेकर कार्य करता है।जैसे जैसे मानसून का समय नजदीक आता जा रहा है नदी जलस्तर के किनारे बसे ग्रामीणों की बेचैनी भी बढ़ती जा रही है। जून का महीना समाप्त हो गया है, लेकिन कटाव रोकने का काम अब भी कछुआ की गति से चल रहा है जबकि इस समय तक कटान रोकने के लिए बांध के कटाव स्थल पर जियो बैग आदि का मुकम्मल इंतजाम हो जाना चाहिए था।बाढ़ आने के बाद नदियों में उफान आ जाता है उस वक्त कोई भी कार्य कराना संभव नहीं होता, लेकिन विभाग उस समय ही चेतता है। तब सभी के पास खुद की बर्बादी देखने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं बचता है।सोमवार को बलिगांव,मुरहिया,परसादी गांव के कटान क्षेत्र में नदी के किनारे लगाए जा रहे जियो बैग की अनियमितता के एक सप्ताह बाद जायजा लिया गया तो निर्माण कार्य बंद पड़ा है।बलिगांव गांव निवासी रविन्द्र कुमार,सुरेन्द्र राय, बिलास सहनी, रामबाबू राय, खेलावन राय,शम्भू सहनी,रामानन्दी सहनी, कामेश्वर राय,जवाहर राय ने बताया कि नदी में पानी दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है जिससे खतरा भी बढ़ रहा है। करीब आठ दिन से कार्य रुका हुआ है जिससे ग्रामीणों में रात और दिन खतरे की आशंका बनी हुई है।गंडक घाट क्षेत्र के लोग पिछले लंबे समय से बाढ़ से बचाव के लिए वायर क्रेट लगाए जाने की मांग उठाते आ रहे है।बरसात के दिनों में नारायणी नदी के उफनाने के बाद तटीय क्षेत्र में रह रहे लोगों को पंचायत भवन, विद्यालय व किराए के मकान में रहने के लिए विवश होना पड़ता है।वही स्थानीय मुखिया प्रतिनिधि राजकिशोर राय ने बताया कि गंडक नदी से हर साल उनके पंचायत में बाढ़ का खतरा पैदा हो जाता है।इस क्षेत्र के किसान की कई एकड़ उपजाऊ भूमि नदी की भेंट चढ़ चली जाती है। उन्होंने बताया कि बाल्मिकीनगर बराज से पानी छोड़े जाने से गंडक नदी का जलस्तर बढ़ने का सिलसिला जारी है।नदी का जलस्तर बढ़ने से तटबंधों पर भी दबाव बढ़ गया है। इसके साथ ही कटाव प्रभावित इलाकों की दशा और बिगड़ने लगी है। जलस्तर बढ़ जाने से नए इलाकों में भी गंडक नदी का पानी चढ़ने की आशंका दिखने लगी है। जिससे तटबंध से सटे गांवों के ग्रामीणों में भय का माहौल बनने लगा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here