पूर्वी चंपारण भाकपा-माले ने गोरखपुर मेडिकल कॉलेज के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कफील खान को अविलंब रिहा करो की मांग की

0
39

मोतिहारी:-प्रसिद्ध शिशु रोग विशेषज्ञ गोरखपुर मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर कफील खान के रिहाई की मांग को लेकर भाकपा-माले,aisa, RYA और इंसाफ मंच के राष्ट्रव्यापी आह्वान पर आज मोतिहारी बेलिसराय में एक दिवसीय धरना दिया गया।जिसकी अध्यक्षता भाकपा-माले के नगर सचिव विष्णुदेव प्रसाद यादव ने की।इस कार्यक्रम में भाकपा-माले जिला कमिटी सदस्य भैरव दयाल सिंह,RYA के अशोक कुशवाहा,गौरव स्वरुप,aisa के मो0 नवाज,मो0 दानिश आदि लोगों ने भाग लिया।
इस मौके पर आयोजित धरना को संबोधित करते हुए नेताओं ने कहा कि डॉक्टर कफील खान को जिस मामले में जेल में बंद कर के रखा गया है वह बिल्कुल झूठे और मनगढंत हैं।उन्हें राजनितिक विद्वेष के तहत रासुका जैसे मामले में फसाया गया है।वे एक ऐसे डॉक्टर हैं जो यूपी से बिहार तक हजारों बच्चों की जिंदगी बचाने और बाढ़ पीड़ितों की सेवा करते रहे हैं।जहां कहीं भी लोकतान्त्रिक अधिकारों पर हमला हुआ है उसका भी उन्होंने डटकर विरोध किया है।इसी विरोध के चलते उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है।उन्होंने संविधान व लोकतंत्र विरोधी नागरिकता संसोधन कानून cAA, एनपीआर,NRC विरोधी कार्यक्रमों में भाग लिया था।जो देश के नागरिकों का संविधान सम्मत लोकतान्त्रिक अधिकार है।
योगी और मोदी सरकार यूपी सहित पूरे देश में फासीवादी शासन चला रहे हैं।आज कोरोना महामारी के दौर में जब ज्यादा से ज्यादा डॉक्टर्स की जरूरत है उस समय जनता के जीवन के प्रति एक समर्पित डॉक्टर को जेल में बंद रखना घोर मानवता विरोधी है। इसलिए आज के प्रतिवाद आंदोलन से हमलोग मांग करते हैं कि डॉक्टर कफील खान पर दर्ज तमाम फर्जी मामले जल्द वापस लेकर बिनाशर्त रिहा किया जाये।इस तरह का दमन अभियान पूरे देश में चल रहा है।वह दिल्ली से महाराष्ट्र तक देखने को मिल रहा है।जनकवि वरवर राव,आनंद तेलतुंबड़े,सुधा भारद्वाज सहित सैकड़ों राजनितिक ,मानवाधिकार,कार्यकर्ताओं,लेखकों,पत्रकारों,साहित्यकारों को जेल में बंद करके रखा गया है।हम कोरोना महामारी के दौर में उन सभी लोगों के रिहाई की मांग करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here