मुजफ्फरपुर एवं आस-पास के जिलों में 27 जून से 29 जून तक अत्यंत भारी वर्षापात की डीएम ने दिया चेतावनी

0
160

मजफ्फरपुर से अरविंद अकेला की रिपोर्ट

जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के तत्वाधान में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की हुई बैठक। संभावित आपदा से निपटने हेतु की जा रही तैयारियों की गई समीक्षा।
26जून, 2020 मौसम विज्ञान केन्द्र, पटना के द्वारा मौसम की वर्तमान गतिविधि एवं संख्यात्मक मौसम माॅडल के आकलन के अनुसार राज्य के अधिसंख्य भागों में अगले 72 घंटों के दौरान भारी से अत्यंत भारी वर्षापात एवं वज्रपात की संभावना व्यक्त की गयी है। इसके कारण जान-माल के हानि होने की, निचले स्थान में जलजमाव, यातायात बाधित, बिजली सेवा बाधित, नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी होने की संभावना है।
इसका मुख्य प्रभाव नेपाल के तराई से सटे क्षेत्र एवं उत्तर और मध्य बिहार के निम्न जिलों यथा-पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सिवान, शिवहर, सीतामढ़ी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, सारण, मधुबनी, सुपौल, अररिया, सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया, किशनगंज एवं कटिहार में रहने की संभावना है। जिलाधिकारी, डॉ चंद्रशेखर सिंह द्वारा मुजफ्फरपुर जिले के आम नागरिकों को उचित सावधानी एवं सुरक्षा उपाय बरतने की सलाह दी गयी है। साथ ही जिला स्तरीय सभी पदाधिकारियों एवं सभी अंचल अधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, थानाध्यक्षों को अलर्ट पर रहने का निदेश दिया गया है, ताकि किसी भी आपात स्थिति से निपटा जा सकें। आज समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक जिलाधिकारी की अध्यक्षता में आहूत की गई। बैठक में वरीय पुलिस अधीक्षक ,उप विकास आयुक्त, नगर आयुक्त ,सहायक समाहर्ता, अपर समाहर्ता ,अपर समाहर्ता-आपदा, सहित जिले के सभी वरीय पदाधिकारी और विभिन्न तकनीकी विभागों के पदाधिकारी उपस्थित थे। बैठक में भारी वर्षापात की संभावना को देखते हुए जिला प्रशासन एवं विभिन्न विभागों द्वारा की जा रही तैयारियों की विस्तृत समीक्षा की गई एवं आपात स्थिति से निपटने हेतु महत्त्वपूर्ण दिशा- निर्देश दिए गए ।निर्देसज दिया गया कि सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचल अधिकारी ,थानाध्यक्ष एवं प्रखंडों के अन्य पदाधिकारी भारी वर्षापात एवं संभावित बाढ़ के दृश्टिकोण से निष्क्रमण के लिए पूर्व से ही तैयार रहते हुए पर्याप्त संख्या में नावों की प्रतिनियुक्ति कर लें।कार्यपालक अभियंता गंडक,बूढ़ी गंडक,बागमती,जल निस्सरण को भी अलर्ट किया गया है।साथ ही आपदा की स्थिति में आम- जनों को राहत पहुंचाने के मद्देनजर जिले के एनडीआरएफ और एसडीआरएफ टीमों को भी निर्देशित किया जा चुका है कि वे 24×7 तैयार रहें। संभावित आपदा को देखते हुए सिविल सर्जन मुजफ्फरपुर को निर्देशित किया गया है कि आपदा की स्थिति से निपटने के लिए अपने स्तर से डॉक्टरों और एंबुलेंस की प्रतिनियुक्ति दवाओं की उपलब्धता मोबाइल मेडिकल टीम/ पारा मेडिकल स्टाफ इत्यादि की प्रतिनियुक्ति करना सुनिश्चित करें। मुजफ्फरपुर नगर निगम, नगर पंचायत कांटी, मोतीपुर एवं साहेबगंज को निर्देशित किया गया है कि वे आपदा की स्थिति को देखते हुए इमरजेंसी टीम का गठन कर लें ताकि जलजमाव की समस्या को तत्काल दूर किया जा सके। प्रखंडों के वरीय प्रभारी पदाधिकारी भी अपने- अपने प्रखंडों में जलजमाव से निपटने के लिए प्रभावी व्यवस्था करना सुनिश्चित करेंगे। दोनों अनुमंडल पदाधिकारी उक्त कार्य का सतत अनुश्रवण करेंगे। नगर आयुक्त को निर्देशित किया गया है कि शहर के विभिन्न क्षेत्रों में निर्माण कार्य से संबंधित किए जा रहे हो कार्यों के क्रम में खोदे गए गड्ढों का मार्क करते हुए चारों तरफ सुरक्षा घेरा का निर्माण कराना सुनिश्चित करेंगे ।संभावित आपदा को देखते हुए अग्निशमन विभाग, विद्युत विभाग ,यातायात उपाधीक्षक, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, जिला परिवहन पदाधिकारी को भी अलर्ट मोड में रहने का निर्देश दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here