सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल बनी है निसरत खातून ,पिछले पांच साल से कर रही हैं छठी मईया की पूजा

0
15

पटना:-आस्था को जाति और धर्म के दायरे में नहीं बांधा जा सकता है। कुछ ऐसा ही नजारा नगरनौसा प्रखंड के उस्मानपुर छठ घाट पर दिखा। यहां नगरनौसा के बड़ी मस्जिद गांव निवासी एक मुस्लिम महिला अपने परिजन के साथ अर्घ्य देने पहुंचीं थीं। खास यह कि मुस्लिम परिवार छठ महापर्व को पूरी श्रद्धा के साथ करते हैं। परंपरा नयी नहीं बल्कि, पिछले पांच साल से चली आ रही है।
बड़ी मस्जिद निवासी निसरत खातून बताती हैं कि उनका चार पुत्र व तीन पुत्रियां हैं। वह पिछले पांच वर्षों से लगातार छठ पूजा कर रही हैं। छठी मईया में श्रद्धा इतनी कि वह कहती हैं कि जबतक जिंदगी रहेगी, तबतक छठ करेंगी। जब से छठ की शुरुआत की है, तब से घर में सुख समृद्धि आयी है। बेटे के साथ ही पति की आमदनी भी बढ़ गई। पूरा परिवार खुशहाल है। वे बताती हैं कि छठ पूजा करने में समाज के कोई भी व्यक्ति द्वारा आजतक रोक-टोक नहीं किया गया। किसी को दिक्कत भी नहीं है कि हम मुस्लिम होकर छठ पूजा कर रहे हैं। रिश्तेदार भी छठ के मौके पर घर आते हैं छठ पूजा करने में मदद करते हैं। और तो और  छठ का प्रसाद भी खुशी पूर्वक सभी लोग अपने-अपने घर ले जाते हैं। निसरत खातून बताती हैं कि गांव में हिन्दू महिलाओं द्वारा बड़े ही श्रद्धा और विश्वास के साथ छठ पूजा करते देख उनके मन में भी छठी मईया की पूजा करने की इच्छा हुई। इसके बाद उन्होंने छठ महापर्व की शुरुआत की। घर वालों ने किसी तरह का कोई विरोध नहीं किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here