सारण जिले के परसा प्रखंड के सभी पंचायत सहित प्रखंड कार्यालय, बिजली पावरग्रिड में घुसा बाढ़ का पानी

0
72

रौशन कुमार पत्रकार

परसा:-प्रखंड के 13 पंचायतों में बाढ़ से कोहराम मच गया है। लोगों का जन जीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया है।चारों तरफ हाहाकार मचा हुआ है।बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लोग घर की छतों पर शरण लिए हुए है।सड़क व नहर के किनारे अस्थायी टेंट बना कर किसी तरह जीवन यापन कर रहे है।इसमें मवेशियों का देख भाल करना बहुत ही कष्टमय हो गया है।बहुत से गांव टापू में तब्दील हो गया है।प्रखंड के अन्याय,अंजनी,बनौता,माड़र सहित दर्जनों पंचायत में पूर्ण रूप से प्रभावित है।कई लोग बांध पर शरण लिए हुए हैं तो कई अपनी घर की छत पर राहत के लिए टकटकी लगाए हुए हैं।लगातार जलस्तर बढ़ने के कारण ग्रामीण डर के मारे गांव छोड़कर पलायन कर रहे हैं। बाढ़ में घिरे सैकड़ों लोग अपने परिवार के साथ ऊंचे स्थानों की ओर पलायन कर गये है।जो लोग बचे है उनको प्रशासन द्वारा कोई मदद नहीं मिलने से पीड़ितों में आक्रोश व्याप्त है।तमाम पीड़ितों ने आरोप लगाया है कि तीन दिन पहले अंचल पदाधिकारी रश्म अदायगी के लिए पीड़ित क्षेत्र में आये थे। पर प्रशासन की तरफ से बाढ़ पीड़ितों को कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है। बाढ़ पीड़ित खुले आसमान के नीचे,ऊंचे स्थानों और बांधों पर शरण लिये हुये है। उनके पास न तो खाने के लिए राशन है और न ही जरुरत के अन्य सामान।
अन्याय पंचायत में ग्रामीणों के सहयोग से चल रहे है नाव
प्रखंड क्षेत्र के अन्याय पंचायत में सड़क पर दो फीट पानी बह रहा है।जिससे ग्रामीणों के सहयोग से नाव के परिचालन कर 6 किलोमीटर आगे जाकर अपने रिश्तेदारों व इष्टमित्रों के यहाँ आश्रय ले रहे हैं। सड़क के किनारे स्थित घरों में घुटने तक पानी भरा हुआ है।ग्रामीण गोपाल साह, रविन्द्र साह, मनोहर साह, सभापति राय, अजय सिंह, विधान राय, जयनाथ राय, राजेंद्र साह,शिवबचन राय व अन्य ने बताया कि अभी तक प्रशासन देखने तक नहीं आया है। सारा सामान भींग गया है।ग्रामीणों ने बताया कि प्रशासन का नाव तो कही दिखाई भी नहीं दे रहा है और न ही कही राहत शिविर चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here